रविवार, 16 मई 2010

जब से वो मशहूर हो गए ।
ख़ुद से कितना दूर हो गए ।

बाहर इतनी चमक बिखेरी
भीतर से बेनूर हो गए ।

देखा जिनको सजदे में था
इश्क हुआ मगरूर हो गए ।

घिन से चेहरे मुफ़लिसी के
दौलत आई हूर हो गए ।

ख़ुद को देखें आँख पराई
दुनिया के दस्तूर हो गए ।

3 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर,सशक्त अभिव्यक्ति...... दुनिया के बदलते दस्तूरों पर करारा व्यंग्य...श्रेष्ठ सृजन अनवरत रखे बन्धु..........बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर भावों को बखूबी शब्द जिस खूबसूरती से तराशा है। काबिले तारीफ है।

    उत्तर देंहटाएं