शुक्रवार, 14 मई 2010

प्राणों का हवन

विरह ऐसा सघन हुआ है।
पतझर-सा मधुबन हुआ है।

अंतर्मन को भेद व्यथाएँ
विकल पोर निर्झर-पीड़ाएँ
सुप्त हुई सौरभ-क्रीड़ाएँ

प्रेम-निशा का स्वप्न मधुरम
वेदनामय रुदन हुआ है।

पल मखमल के कब के छूटे
स्पर्श रेशमी जबसे रूठे
सांस बावरी टूट,न टूटे

प्रेम-पंथ की यज्ञशाला
प्राण का यूँ हवन हुआ है।

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपका ब्लॉग तो बहुत अच्छा है और कविता भी प्यारी.
    _________________
    पाखी की दुनिया में- 'जब अख़बार में हुई पाखी की चर्चा'

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझे आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा ! आप बहुत ही सुन्दर लिखते है ! मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं