रविवार, 15 अगस्त 2010

नदी


आस्था के पुष्पों

और मुर्दों ने तुझे लील लिया

बाज़ार के टापू धड़धड़ाते रहे

सीने पर तेरे

पर्वतों की कृपणता ने तुझे कील लिया

पुरानी तस्वीरों और स्मृतियों के घेरे

तुझे आकाशगंगा बना देंगे

पद-चिह्नों की धूल

चकाचौंध में दुबक तमाम हो रही


कुछ उजले हाथ अपर्याप्त हैं

ये ध्वजाएँ बहुत थोड़ी हैं

भीड़ के भेजे में कौन उकेरे

तेरे दर्दनाक हादसों की टीस


उपाधियों और नामकरणों की

इस समूची पीढ़ी की पैदावार छोड़िये

उन टापुओं की मोहिनी माया

पेट को रोटी दे न दे

वंशजों के वृक्ष को मट्ठा अवश्य देगी l


6 टिप्‍पणियां:

  1. शेखावत जी
    आपकी रचना बहुत शानदार है
    यूं ही लिखते रहे
    मेरी शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरी ओर से स्वतन्त्रता-दिवस की
    हार्दिक शुभकामनाएँ स्वीकार करें!
    --
    वन्दे मातरम्!

    उत्तर देंहटाएं
  3. रचना बहुत शानदार है
    स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आपका हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. *********--,_
    ********['****'*********\*******`''|
    *********|*********,]
    **********`._******].
    ************|***************__/*******-'*********,'**********,'
    *******_/'**********\*********************,....__
    **|--''**************'-;__********|\*****_/******.,'
    ***\**********************`--.__,'_*'----*****,-'
    ***`\*****************************\`-'\__****,|
    ,--;_/*******HAPPY INDEPENDENCE*_/*****.|*,/
    \__************** DAY **********'|****_/**_/*
    **._/**_-,*************************_|***
    **\___/*_/************************,_/
    *******|**********************_/
    *******|********************,/
    *******\********************/
    ********|**************/.-'
    *********\***********_/
    **********|*********/
    ***********|********|
    ******.****|********|
    ******;*****\*******/
    ******'******|*****|
    *************\****_|
    **************\_,/

    स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  5. उपाधियों और नामकरणों की

    इस समूची पीढ़ी की पैदावार छोड़िये

    उन टापुओं की मोहिनी माया

    पेट को रोटी दे न दे

    वंशजों के वृक्ष को मट्ठा अवश्य देगी l

    जहां साडी संवेदनाएं सूखती जा रही हो उस पीढ़ी से और उम्मीद भी क्या की जा सकती है .....
    बहुत गहरी और सशक्त कविता...!!

    उत्तर देंहटाएं